कामवाली बाई की चुदाई की कहानियाँ : Kamwali ki Choot Chudai – Sex Stories


कामवाली बाई की चुदाई की कहानियाँ : Kamwali ki Choot Chudai – Hindi Antarvasna Sex Stories

आप सबी भाभी और लड़कीो को मेरे खड़े लंड का प्रणाम.

पहले मई आपको पाने बारे मे बीटीये डू की, मई 5’8” रेग्युलर जिम जाने वाला लड़का, रंग गोरा और दिखने मे हॅंडसम, मई अपनी एंगग की पढ़ाई क सिलसिले मे देल्ही आया था, इंजिनियरिंग करने क बाद खि जॉब नि लगने की वजह से मैने कॉल सेंटर जाय्न क्र लिया. वैसे मई र्हने वाला कानपुर, उत्तर प्रदेश का हू

आज आपसे एक कहानी सझा क्रना चाहता हू, जो काफ़ी टाइम से सोच रा था. जो मज़ा छोड़ने मे ह वो इस दुनिया मे और खि नि, खास क्र नई नवेली भाभी.

बात 4 साल पहले की ज्ब मई 1 कॉल सेंटर पेर जॉब क्रटा था, वहाँ पेर मेरी मुलाकात आँचल माँ से हुई जो की मेरी टीम लीडर थी, उनकी आगे कोई 24 साल र्ही होगी, वो देखने मे बहुत ही खूबसूरत और बूब्स बहुत टाइट और गंद निकली हुई की कोई ब देखे तो उसके लंड का पानी निकल आए.

मई कॉल्स लेता र्हता था और उसे चोरी चोरी देखता र्हता था, कई बार उनसे मेरी नज़र मिली पेर मई अपनी नज़र झुका लेता था ऐसा ही काफ़ी दिन तक चलता रा और हमरी बातचीत धीरे धीरे बढ़ने लगी फिर 1 दिन वो मूज़े अपने फ्लॅट पेर ले गई जो की कॉल सेंटर से ज़्यादा दूरी पेर नि था, वहाँ पेर उसने मूज़े नास्टा कराया और फिर वो दूसरे कमरे मे जा कर पर्दे पीछे खड़े हो कर कपड़े चेंज करने लगी, और वो जब बाहर आई तो सिल्की और तीन मॅक्सी मे थी उसे देख क्र मेरा लंड खड़ा होने ल्गा और वो मेरे पास आ कर बैठ गई, फिर ह्म लोग बात करने ल्गे, उसे मेरे अंदर क भाव का समझ गया और उसने मेरे खड़े लंड की ओर देखा और मुस्कुरा दिया,

मई ब मुस्कुराते हुए उनके बाजू मे जा कर बैठ गया, धीरे धीरे उनके जाँघ मे हाथ फेरने ल्गा मॅक्सी क उपरे से, उनकी आखे बंद होने लगी फिर मैने ब देर ना करते हुए तू उन्हे किस क्र लिया, उसके बाद उन्होने मेरे लंड को पकड़ा और मसलने लगी और मई उन्हे किस क्र रा था और 1 हाथ से उनके टाइट बूब्स को दबा रा था, धीरे धीरे मैने मॅक्सी क अंदर हाथ दल क्र धीरे धीरे बूब्स को दबाने लगा जिससे उनके मूह से कामुक आवाज़ आने लगी और मेरे लंड को आगे पीछे क्र क हिला र्ही थी, मैने धीरे धीरे मॅक्सी उठाई और उनके बदन से अलग क्र दिया, उन्होने ब मेरी पंत और अंडरवेर खोल क्र नीचे गिरा दिया और मैने ब त शर्ट निकल क फेक दिया,

उनके सामने मेरा 7 इंच का खड़ा लंड था, वो घुटनो मे बैठ क्र उसे प्यार से देखने लगी और किस काइया, फिर उन्होने लंड को मूह मे ले क्र जो जादू दिखाया, मई समझ गया की ये ज़्ब इनके लिए पहली बार नि ह.

फिर उन्होने मेरे लंड को 5 मीं ट्के चूसा और उसका एहसास आज ब ह मूज़े, मैने ब उनकी पनटी मे हाथ दल क्र उनके छूट मे उंगली करने ल्गा और 1 हाथ से बूब्स ड्बे रा था, उन्हे मूह से आवाज़े सुन क्र मूज़े जोश आने ल्गा, मैने उन्हे उठाया और बेडरूम मे जा कर पटक दिया, मेरा खड़ा लंड उनके छूट मे जाने का इंतजार करने ल्गा, फिर मैने उनको तिदा और गरम काइया मैने अपना मूह उनकी छूट पेर रख दिया और मूह से उःने छोड़ने ल्गा वो मेरा सिर पकड़ क छूट मे ज़ोर ज़ोर से ड्बे र्ही थी और चिल्ला र्ही थी.

थोड़ी देर बाद मई उनके उपेर गया, उन्होने अपने हाथ से मेरा लंड अपनी छूट पेर सेट काइया और मैने धीरे से शॉट लगाया तो उन्होने ज़ोर से मुझे पकड़ लिया और थोड़ी देर ट्के पकड़े र्ही, उसके बाद मई वापस पोज़िशन मे आया और धीरे धीरे शॉट लगाने ल्गा, धीरे धीरे स्पीड बढ़ती गई, मैने उन्हे 10 मीं ट्के ज़ोर ज़ोर छोड़ा उसके बाद उनका गिर गया और फिर मूज़े ज़ोर से पकड़ लिया थोड़ी देर मे मेरा ब नियकलने वाला था तो मैने अपना लंड निकाला उन्हे बूब पेर हिला क गिरा दिया.

उस दिन फिर मई अपने रूम पेर नि आया और पूरी रत मैने 3 बार उनको छोड़ा, कभी डॉगी स्टाइल तो दीवार क सहारे उल्टा खड़ा क्र क छोड़ा, वो दिन मेरी ज़िंदगी का यादगार दिन ह.

1 बार मई उनको अपने फ्लॅट पेर ले क्र आया उसके बाद ह्म लोग अपने फ्लॅट की छत पेर गये वहाँ दारू पी फिर उस रत छत पेर ही पूरी रत जबरदस्त चुदाई की.

ये चुदाई का खेल अब डेली ही होने ल्गा, ऑफीस से उनके फ्लॅट पेर जाना या क्बी मेरे रूम पेर आना फिर जबरदस्त चुदाई का मजा लेना, कुछ दिन बाद मैने गंद मरने की ब कोसिस की पेर चिल्लाने लगी तो मैने छोड़ दिया.

इसके कुछ दिन बाद मैं अपने होमे टाउन गया तो अपने बड़े भैया की साली की छोड़ा, फिर देल्ही आ कर 1 गर्ल फ्रेंड बनाई जिसे 2 साल ट्के ट्के छोड़ा, अब उसकी सदी हो गई पेर ज्ब क्बी देल्ही आती ह तो जबरदस्त छोड़ता हू.

ज्लडी ही बाकी कहानी क बारे मे ब लिखूंगा.

आपके विचार और सुझाव मेरी नीचे दी गई ई मेल आईडी पर अवश्य प्रेषित करें.
धन्यवाद.
जॅक.ड्सुज़ागमाल.कॉम
रोहित